पाकिस्तान के खिलाफ ये रहे टीम इंडिया की हार के 5 कारण

पाकिस्तान के खिलाफ ये रहे टीम इंडिया की हार के 5 कारण from youtube by IND News
featured video : इस कारण से 2017 में (U.P) में होगी BJP की सरकार...Because of this BJP will win the election of 2017.
featured video : सरेआम बेइज्ज़त होने के बाद, शाहरुख की बेटी सुहाना ने कार में की ये हरकत |Suhana’s Car Activity
https://www.facebook.com/INDNEWSHINDI/पाकिस्तान के खिलाफ ये रहे टीम इंडिया की हार के 5 कारणचैंपियंस ट्रॉफी 2017 के फाइनल मुकाबले में पाकिस्तान ने टीम इंडिया को 180 रनों के बड़े अंतर से हराकर खिताब पर अपना कब्जा जमा लिया है. भारतीय टीम टीम इंडिया गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों क्षेत्र में नाकाम रही. पाकिस्तान द्वारा रखे गए 339 रनों के लक्ष्य के दबाव में भारत का मजबूत और गहरा बल्लेबाजी क्रम ताश के पत्तों की तरह ढह गया और पूरी टीम 30.3 ओवरों में महज 158 रनों पर सिमट गई.

आईसीसी टूर्नामेंट के फाइनल में यह किसी भी टीम द्वारा रनों के लिहाज से हासिल की गई सबसे बड़ी जीत है। लेकिन भारतीय टीम की इस हार में कई ऐसे पल रहे जहां भारतीय खिलाड़ी पूरी तरह से मैच से बाहर नज़र आए.

आइए जानते हैं टीम इंडिया की हार का सबसे बड़े कारण क्या रहा और कहां हुई उनकी गलती:

टीम इंडिया की सबसे पहली और बड़ी गलती टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी चुनने का रहा. बैटिंग के लिए अनुकुल ओवल की पिच पर कोहली का ये फैसला बिल्कुल गलत साबित हुआ.

हार का एक बड़ा कारण जसप्रित बुमराह की नोबॉल भी रही, मात्र 3 रन पर फखर जमां बुमराह की गेंद पर कैच आउट हो गए थे लेकिन अंपायर ने बुमराह की उस गेंद को नोबॉल करार दिया जिसके बाद जमां ने 114 रनों की बड़ी पारी खेली.

हार का तीसरा बड़ा कारण टॉ़प ऑर्डर के बल्लेबाजों का पूरी तरह से फ्लॉप होना रहा. पाकिस्तानी गेंदबाजों ने शुरु के पांच बड़े बल्लेबाज को सिर्फ 54 रनों पर चलता कर दिया. जिससे भारतीय टीम उबर नहीं सकी और उसे हार का मुंह देखना पड़ा.

हार का चौथा कारण विराट कोहली एंड कंपनी का पाकिस्तान को कम आंकना भी रहा. टीम इंडिया डिफेंडिंग चैंपियन थी और पाकिस्तान के पास खोने के लिए कुछ नहीं था इसलिए उन्होंने साकारात्मक खेल का प्रर्दशन किया.

हार का पांचवा कारण कप्तान कोहली के द्वारा गेंदबाजों का भी सही से प्रयोग नहीं करना रहा. मिडिल ओवर्स में जिस समय भारतीय गेंदबाज़ों को रन बचाने चाहिए थे उस समय मुख्य स्पिन गेंदबाज आर अश्विन और रविंद्र जडेजा ने जमकर रन लुटाए.